होमअंतरनिर्वाण, परिनिर्वाण और महापरिनिर्वाण में क्या अंतर है? | Nirvan parinirvan aur...

निर्वाण, परिनिर्वाण और महापरिनिर्वाण में क्या अंतर है? | Nirvan parinirvan aur mahaparinirvan me kya antar hai

नमो बुद्धाय, क्या आप जानना चाहते हैं कि “निर्वाण, परिनिर्वाण और महापरिनिर्वाण में क्या अंतर है? – Nirvan Parinirvan Aur Mahaparinirvan Me Kya Antar Hai?” तो बिल्कुल सही आर्टिकल पढ़ रहे है क्योंकि इस आर्टिकल में आपको “निर्वाण का क्या अर्थ है” Nirvan Ka Kya Arth Hai, परिनिर्वाण का क्या अर्थ हैं? – Parinirvan Ka Kya Arth Hai, और महापरिनिर्वाण का अर्थ हैं? Mahaparinirvan Ka Kya arth hai, कैसे हासिल होता है निर्वाण? की जानकारी पढ़ने को मिलेगा। इसलिए इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़े।

Nirvan parinirvan aur mahaparinirvan me kya antar hai
निर्वाण, परिनिर्वाण और महापरिनिर्वाण में क्या अंतर है

विषय सूची

निर्वाण, परिनिर्वाण और महापरिनिर्वाण में क्या अंतर है?

गौतम बुद्ध के ज्ञान, विचार और सिद्धार्थ दुनिया भर के लोग मानते हैं और अनुसरण करते हैं। उनके विचारों को लोगो ने बौद्ध धर्म के रूप में भी स्वीकार किया। बौद्ध धर्म में तीन शब्द आता है – निर्वाण, परिनिर्वाण और महापरिनिर्वाण। आज हम इन्ही तीनो शब्दो का अर्थ/मतलब जानेंगे।

निर्वाण का अर्थ होता है? | Nirvan Ka Kya Arth Hota Hai?

निर्वाण का शाब्दिक अर्थ – पाली भाषा में “निर्वाण” शब्द का अर्थ “निब्बान” होता है अर्थत पीड़ा या दु:ख से मुक्ति पाने की स्थिति। बौद्ध धर्म के अनुसार निर्वाण उस अलौकि ज्ञान और शांति का नाम है जिसे प्राप्त करना सर्वोत्तम धार्मिक लक्ष्य है और जिसे प्राप्त करने के बाद और कोई कर्म शेष नहीं रह जाता। निर्वाण प्राप्त चुका व्यक्ति संसारिक इच्छाओं, जीवन की पीड़ा या दु:ख और जीवन चक्र से मुक्त होता है।

परिनिर्वाण किसे है? | Parinirvan Kise Kahte Hai?

बौद्ध धर्म के सिद्धांतों निर्वाण प्राप्त कर चुके व्यक्ति के देहावसान को परिनिर्वाण कहते हैं क्योंकि इसके बाद उस व्यक्ति का कोई भी कर्म शेष नहीं रह जाता है। उसके सभी कर्मो की समाप्ति हो जाती है।

महापरिनिर्वाण किसे कहते हैं? | Mahaparinirvan Kise Kahte Hai?

गौतम बुद्ध जैसे महापुरुषों का परिनिर्वाण को महापरिनिर्वाण कहते है।

संविधान निर्माता, भारत रत्न बौद्ध प्रिय डॉ. भीम राव अंबेडकर के पुण्यतिथि को महापरिनिर्वाण दिवस के रूप में जाना जाता है।

FAQ:-

कैसे हासिल होता है निर्वाण?

गौतम बुद्ध के महापरिनिर्वाण 80 वर्ष के उम्र में हुआ था। कहा जाता है सदाचारी और धर्मसम्मत जीवन जीना कर निर्वाण प्राप्त किया जा सकता है।

इसे भी पढ़े:

दोस्तों इस आर्टिकल मैं आपको बताया हूँ – निर्वाण, परिनिर्वाण और महापरिनिर्वाण में क्या अंतर है? – Nirvan, Parinirvan Aur Mahaparinirvan Me Kya Antar Hai? निर्वाण का क्या अर्थ है” Nirvan Ka Kya Arth Hai, परिनिर्वाण का क्या अर्थ हैं? – Parinirvan Ka Kya Arth Hai, और महापरिनिर्वाण का अर्थ हैं? Mahaparinirvan Ka Kya arth hai, कैसे हासिल होता है निर्वाण? निर्वाण का अर्थ होता है? – Nirvan Ka Kya Arth Hota Hai? / निर्वाण किसे है? – Nirvan Kise Kahte Hai? परिनिर्वाण किसे है? – Parinirvan Kise Kahte Hai? महापरिनिर्वाण किसे कहते हैं? – Mahaparinirvan Kise Kahte Hai? आशा हैं यह आर्टिकल आपको पसंद आया हैं। इसे अपने दोस्तों रिस्तेदारों के साथ शेयर करे, नीचे कमेंट कर अपनी प्रतिक्रिया दे। अगर कोई सवाल हो तो नीचे कमेंट में पूछे। स्रोत इंटरनेट स्पेस

- विज्ञापन -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -

लोकप्रिय पोस्ट

- विज्ञापन -
close